Tuesday, December 22, 2020

My experience with the Change Makers

 It all starts with the tiniest step taken against the tide…….

The biggest hurdle to bring any change in society is that one single sentence we come across most often, "What can I do alone when everybody else is at fault?".

NIRMAN campus is that one place, where irrespective of whatever is happening outside the main gate, everybody within is trying hard to establish that ideal world we all dream to be in.

When entering the gates of NIRMAN, you must leave behind any preconceived notions about gender roles. Here, don't be surprised if you come across the first person beyond the gate to be a female, guarding the entrance to the campus. NIRMAN consciously makes every effort to twist the gender roles and does encourage everybody to push their limits to try new roles and don every hat possible at some point.

When at NIRMAN, you start believing that change is possible, only the resolute and perseverance is what is required.

The organization is committed to the preservation of nature as well. The environment that we live in today, is pervaded with all kinds of pollution, be it airborne, water carried or sound. NIRMAN has always tried to fight these menaces; primarily by instilling a culture of recycling, making paper and cloth bags, year-round plantation programs, organic farming, segregation of garbage, composting, etc. And secondly, by spreading awareness through various mediums. Once in the campus, you will get to be with lots of greenery, you might even see a huge tree right in the middle of the office, which never got cut off while building the office. The campus is a no-plastic zone.

The philosophy here lays down that peaceful coexistence is possible irrespective of what your religion is or what your socioeconomic background is. A school run under the aegis of NIRMAN, 'Vidyashram the Southpoint', has students from all diverse backgrounds, and they talk about the world at large, discuss various issues but only to seek solutions and not be the part of the problem.

The pedagogy adopted by the school ensures that the students learn to reason, are prepared to make decisions, and are able to follow their own path in life. And indeed, with such strong principles that the organization has put down as its inherent culture, the school run under its aegis becomes the ideal atmosphere to nurture young minds.

This culture is the hard work of NIRMAN's director Dr. Nita Kumar, who has been working persistently to sustain and maintain this ideology ever since its inception in 1990.

My 8years with this organization were pure bliss, I have learned a lot and even unlearned quite a few. It changed my view completely towards many aspects of life and got into purview many more issues which otherwise I might have very conveniently ignored my entire life.

~ Mitali Sengupta


               Mitali maam with her daughter, Hiya!

(Mitali Sengupta worked as the Manager at NIRMAN from the year July 2010 to January 2018)


 

Friday, November 20, 2020

Real Change

 

What is this space NIRMAN? Who is it created for? How much has it mattered?

 Last 8 years of my life, I have worked intensely with and in NIRMAN. It has definitely helped and helping me create and be the change I wish to see in this world. I like to often see and observe all the various happenings inside our campus as a witness, as an observer, like I do it for my own life. I am trying to do that here.

  Being at NIRMAN, I have learnt more than I have taught and that is one of the prerequisites if anyone wishes to join the workforce.


Let’s take you through a tour of this place. If you entered the gates of this campus, you will be met by plants, trees and flowers of all kinds and  people of all ages. You will see beautiful school walls and classrooms which feel like ‘home’. You will find children who are happy, relaxed and joyful in their different activities. Whether it be singing their English/ Hindi rhymes, or making a hut of mud, whether it be listening to stories and happily narrating their stories to their teacher, or deeply engrossed in their English sentences and numbers. The relationship of  the teacher and each individual child matters and it is emphasized time and again.

This is not just a school, it is a safe and secure world for children. Where else will you find a place, where each child is treated as a unique individual. As a child, one should have the freedom to touch the pinnacle of body and the horizons of mind. To make a child feel limited in his abilities takes away his basic freedom to live and prosper. In today’s world, this is happening everywhere, in homes and in schools. No place is safe and secure for children and one which gives them the freedom to be and learn at their pace and learning styles.


NIRMAN is a place where children are given the confidence to express their opinions and listen to others’ with respect because listening does not necessarily mean following but it means an expansion of mind and ideas. All forms of Arts are part of our life at NIRMAN and part of all children’s lives.

We observe and observe children. We keep researching into their little worlds where imaginary characters happily co-exist, where fairies and ghosts change forms, where there is beauty and organization, where there is a story in every thought.

I am inspired by the thought that gave birth to this place and the grit and determination of the people committed to it. I have met some ex- students. When they come visiting, I can see the love and adulation they have for this place and the teachers who taught them. They can confidently express their opinions and are into different kind of professions. They are happy in the choices they have made for themselves in life.

Our work has touched many families and it continues to inspire them to do better with their children and for them.

Any real change is small. And NIRMAN is one such example.

- Harshita.


( Harshita currently works as the Preschool Co-ordinator in Vidyashram- The Southpoint School and as Incharge of Events.)


Tuesday, September 15, 2020

निर्माण की शिक्षा व्यवस्था

 निर्माण की जो शिक्षा व्यवस्था है वह बिल्कुल नई शिक्षा नीति 2020 से , मिलती - जुलती है । शिक्षा मंत्रालय जिस नीति को अब लागू करने जा रहा है , उसे निर्माण संस्था पिछले 30 सालों से अपने अध्यापन कार्य में प्रयोग कर रही है। इस संस्था की नींव1990 में रखी गई थी तब से ही यह संस्था शिक्षा के क्षेत्र में निम्नलिखित बिंदुओं पर लागातार कार्यरत है । जैसे :-
1) 3-6 साल तक के बच्चों के लिए केयर एवं एजुकेशन की एक अलग तरह की शिक्षा व्यवस्था है और उनका अलग तरह का पाठ्यक्रम है, इसके अन्तर्गत उन्हें उनके वातावरण के प्रति जागरूक किया जाता है, उन्हें उनकी जिम्मेदारी सौंपी जाती है, ये भी सिखाया जाता है कि उन्हें अपनी बात कैसे दूसरों के सामने रखनी है? अपने शरीर और अपने सामान की कैसे देखभाल करना है ? किस तरह से और क्या खाएं कि वे स्वस्थ एवं मजबूत बने। इस उम्र के बच्चों के साथ इस प्रकार से कार्य किया जाता है कि उनकी हाथ की उंगलियों और आंखों का कोर्डिनेशन अच्छा हो सके। इसके लिए उन्हें तरह - तरह के खेल और क्रिया-कलाप कराये जाते हैं। उनकी उंगलियों की मांसपेशियां सही प्रकार से विकसित हों इसलिए उन्हें पेन्सिल का प्रयोग न करा कर मोम कलर से कार्य कराया जाता है।


2) निर्माण संस्था में बच्चों की शिक्षा की व्यवस्था ही इस प्रकार से की गई है कि उनमें नये - नये कौशल का विकास हो सके। कक्षा -१ से ही उन्हें विभिन्न कौशलों से परिचित करा दिया जाता है , जैसे :- रिसर्च करना, किसी का इंटरव्यू लेना, क्रियात्मक लेख, फ्री ड्राइंग, क्राफ्टवर्क, बागवानी आदि। उन्हें विभिन्न प्रकार की जिम्मेदारियां देकर लीडरशिप के गुण भी सिखा  देते हैं। जिम्मेदार बनाने के लिए उनको विद्यालय में अपने सामान को कहां रखना है , इसे कक्षाअध्यापिका सीखाती है, इसके लिए हर कक्षा में काॅपी-किताब, पानी की बोतल, टिफिन रखने की एक निश्चित जगह बनाई जाती है, जहां बच्चे इसे रखकर रोज़ अपना बैग खाली कर देते हैं और छुट्टी के बाद वापस इसे अपने बैग में रखते हैं। इस तरह से उन्हें बचपन से ही जिम्मेदार बनने की शिक्षा दी जाती है। इसी प्रकार रोज़ हर बच्चा कक्षा के बाहर ही अपना जूता-मोजा उतार कर कक्षा में प्रवेश करता है, इसके द्वारा वह अपने जूतों को लाईन में रखना और जूते की लेस बांधना सीखते हैं।

3) एक्सट्रा करिकुलम एक्टविटिज- मेन करिकुलम शामिल:- इसके अनुसार भी निर्माण में अध्यापन कार्य के लिए जो भी कार्ययोजना बनाई जाती है, उसी के साथ ही एक्सट्रा करिकुलम एक्टविटिज भी जोड़ दी जाती है , जैसे आर्ट, म्यूजिक, डांस, रिसर्च, नाटक, भ्रमण आदि। इन क्रियाकलापों के बिना निर्माण में कार्ययोजना अधूरी मानी जाती है।

4) रिपोर्टकार्ड में लाइफ स्किल शामिल:- इसके तहत भी निर्माण में रिपोर्टकार्ड  भी कई सालों से  इसी प्रकार प्रयोग किया जा रहा है, इसमें लाइफ स्किल के कई काॅलम होते ही हैं, जैसे कि म्यूजिक, डांस, योगा, थियेटर, कराटे, स्पोर्ट्स, सिलाई- कढ़ाई आदि ।


5) स्कूल के बाद वयस्क शिक्षा एवं लाईब्रेरी:- इस नीति के अनुसार भी निर्माण में एक बहुत बड़ी और अच्छी लाइब्रेरी है, जिसमें हर प्रकार और हर लेवल की पुस्तकें हैं। इस लाइब्रेरी में कोई भी बाहरी विद्यार्थी या पढ़ने का इच्छुक व्यक्ति आकर पढ़ सकता है, यह सबके लिए खुली हुई है, इसका कोई शुल्क नहीं लिया जाता है। इसका बस एक ही मकसद है कि लोगों में पुस्तक के प्रति प्रेम और अध्ययन में रूचि पैदा हो सके । इसी प्रकार वयस्को के लिए भी शिक्षा की व्यवस्था है , स्कूल के बाद सुचारू रूप से उनकी कक्षा चलती है और उनके लेवल के अनुसार उन्हें पढ़ाया जाता है। व्यस्कों में यहां पर नान टीचिंग स्टाफ को भी शिक्षित किया जाता है, जो जिस लेवल का होता है , उसे उसकी आगे की शिक्षा दी जाती है।


6) स्कूल लेवल पर वोकेशनल स्टडी पर फोकस:- इस नई शिक्षा नीति के अनुसार निर्माण संस्था में 30 सालों से वोकेशनल स्टडी पर फोकस किया जा रहा है। जैसे बागवानी, सिलाई -कढ़ाई, बढ़ईगिरी, कुकिंग आदि। इन सबकी कक्षाएं सप्ताह में एक दिन अवश्य रखी जाती है, ये उनके टाइम टेबल में लिखा रहता है और नियमित रूप से इन सबकी कक्षाएं संचालित होती हैं।

7) बैगलेस पिरियड (10दिन)  :-  इस नई शिक्षा नीति के अनुसार भी निर्माण संस्था पिछले कई सालों से कार्य करता चला आ रहा है , इस कार्य के लिए विद्यालय में जाड़े के दिनों में आर्ट कैंप लगाया जाता है, जिसमें बच्चों को 4 - 5 दिन तक स्कूल में ही रहना होता है उस दौरान बच्चे को बहुत ही नियोजित तरीके से वोकेशनल ट्रेनिंग दी जाती है, जैसे - मिट्टी के बर्तन बनाना, बांस की डलिया बनाना, चारपाई बनाना, स्वेटर बनाना, थियेटर, खाना बनाना आदि प्रकार के स्किल सीखाये जाते हैं। यह बहुत उपयोगी होता है बच्चे बहुत कुछ आनंद के साथ सीखते हैं। इसी प्रकार साल में चार से छह दिन ऐसा अवसर आता है, जबकि बच्चे बिना बैग के आते हैं और तमाम तरह की कलाएं सीखते हैं और अपनी हाथ से बनी हुई चीजों का प्रदर्शन करते हैं।


8) बैग का बोझ कम:- इसके अनुसार भी निर्माण में बैग का बोझ कम से कम ही रखने की कोशिश की जाती है जिसमें बच्चों की काॅपी-किताब स्कूल में ही रखने की व्यवस्था है, उन्हें वही काॅपी-किताब घर ले जाने की अनुमति दी जाती है , जिसमें कि गृहकार्य मिला हो। गृहकार्य भी बहुत ही सुनियोजित तरीके से ही दिया जाता है। यह पहले से ही निश्चित होता है कि एक दिन में किन-किन विषयों का और कितना गृहकार्य दिया जायेगा।


9) शिक्षा का माध्यम स्थानिय/क्षेत्रिय भाषा में होगा:- इस नीति के तहत भी निर्माण संस्था में नियम है कि अगर कोई बच्चा अपनी क्षेत्रीय भाषा में जबाव देता है या फिर उत्तर लिखता है तो उसे टोका नहीं जाता है और न ही उसे मना किया है, वह अपनी भाषा में अपनी बात को व्यक्त कर सकता है। यह एक अंग्रेजी माध्यम का स्कूल है इसलिए अंग्रेजी भाषा के साथ -साथ अन्य भाषाओं को भी उसी प्रकार महत्व दिया जाता है, जैसे कि अंग्रेजी को। समय-समय पर बच्चे नाटक, लेखन, नृत्य-संगीत आदि के माध्यम से अन्य क्षेत्रीय भाषाओं को भी सीखते रहते हैं।


10) सभी चरणों में प्रायोगिक परीक्षा:- निर्माण में प्रत्येक सत्र में सभी विषयों में सिर्फ लिखित परीक्षा न होकर बल्कि साथ-साथ प्रायोगिक परीक्षा भी ली जाती है।


11) सामग्री विचार- अनुप्रयोग, समस्या समाधान पर केन्द्रित होगी:- निर्माण संस्था में शिक्षा व्यवस्था ही इस प्रकार की गई है कि वह समस्या समाधान पर केन्द्रित हो। बच्चों को पढ़ाने की पद्धति और उन्हें प्रश्न-उत्तर लिखने का तरीका, परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्न-पत्र इस प्रकार तैयार किए जाते हैं कि वे उसका उत्तर अपने जीवन से जोड़ कर प्रश्नों के उत्तर लिख पायें और वे उसे अपने जीवन से जोड़ कर भविष्य में आने वाली समस्या को सुलझा सकें


12) पाठ्य पुस्तक सामग्री को कम करना:-  निर्माण संस्था में एन.सी.आर.टी. की ही पुस्तकें पढ़ाई जाती हैं लेकिन इसके साथ -साथ अन्य बहुत सारी चीजों को जोड़ने और कुछ टाॅपिक को टीचर कम करने के लिए भी स्वतंत्र हैं। यहां पर इस बात पर ज़ोर नहीं दिया जाता है कि किसी भी तरह करके  कोर्स पूरा हो जाये बल्कि इस बात पर जोर दिया जाता है कि जो बच्चे को पढ़ाया गया है, उसे वह अच्छी तरह से समझ पाये और अपने जीवन में प्रयोग कर सकें।


13) पोषण और स्वास्थ्य कार्ड, स्कूल के छात्रों के लिए नियमित स्वास्थ्य जांच :- इस नई शिक्षा नीति के तहत हम यह बताना चाहेंगे कि निर्माण संस्था में एडमिशन के समय ही अभिभावकों से बच्चे का मेडिकल सर्टिफिकेट मांगा जाता है और फिर उसी के अनुसार उसकी शिक्षा व्यवस्था की जाती है। समय- समय पर उसके अभिभावक से भी हेल्थ के बारे में बात करते रहते हैं। डॉक्टर को बुला कर स्वास्थ्य परीक्षण भी करवाते हैं। इस विषय पर अभिभावकों के लिए वर्कशॉप आयोजित करते हैं, जिसमें यह बताया जाता है कि किस प्रकार के पोषक तत्वों से भरपूर चीजें बच्चों के आहार में शामिल करना चाहिए और उनके घर की दिनचर्या किस प्रकार होनी चाहिए जिससे कि बच्चे का स्वास्थ्य अच्छा रहे। स्कूल में भी उन्हें रोज़ कोई भी एक मौसमी फल खाने के लिए  प्रोत्साहित किया जाता है और उसे खाने के लिए स्कूल में ही समय निर्धारित कर दिया जाता है, जिससे कि वे स्वस्थ रह सकें। इसी के साथ -साथ यह भी ध्यान रखा जाता है कि क्या वे टिफिन लाते हैं और क्या लाते हैं , ठीक से खाते हैं कि नहीं ये सारी चीजें नियमित रूप से चेक की जाती हैं। जो बच्चे टिफिन नहीं ला पाते हैं उन्हें स्कूल से ताजा पोषण युक्त भोजन दिया जाता है।


                     इस प्रकार से देखा जाए तो निर्माण संस्था  बहुत समय पहले से ही नई शिक्षा नीति के नियमों का पालन कर रही है और उसमें वह सफल भी हुई है ,इसका हमारे पास प्रमाण भी है क्योंकि जो बच्चे इस संस्था से पढ़ कर निकलें हैं वे अपने क्षेत्र में सफल हैं और बहुत अच्छा कार्य कर रहे हैं।

सुनीता त्रिपाठी

Sunday, September 6, 2020

ऑनलाइन कक्षा का अनुभव

 वैसे तो देखा जाए की छोटी से छोटी चीज में भी बहुत कुछ सीखने को मिलता है बस हमें एकाग्रता के साथ उससे जुड़ने की आवश्यकता है उसी प्रकार इस महामारी के चलते जो ऑनलाइन कक्षाएं शुरू हुई है उससे भी हमने बहुत कुछ सीखा । बच्चों के सामने रहकर पढ़ाना और एक ऑनलाइन कक्षा लेना एक अलग ही अनुभव है। टेक्नोलॉजी से जुड़ी कई तकनीकों से हमारा परिचय हुआ हम इतना परिश्रम कर रहे हैं पर कुछ बच्चों और अभिभावकों का सहयोग न मिलने के कारण हमारा मन खिन्न हो जा रहा है । बेटावर के कुछ बच्चों को तो हम लोग होमवर्क और क्लास वर्क दोनों करवाते थे । उनके घर में कोई भी सहयोग नहीं करने वाला है । यहा तक कि किसी- किसी के तो मम्मी - पापा ध्यान ही नहीं दे पाते वो शिक्षित नही है या इतने व्यस्त रहते है कि वह बच्चे अपने नाना-नानी या दादा- दादी के साथ रहते हैं दिन भर रहते हैं। और उनको पढ़ाई समझ में नहीं आती है या तो दिखती नहीं है तो वह बच्चे पूरा हम लोगों पर निर्भर थे ।

इसके पहले मैंने एक मदर टीचर का रिलेशन बनाकर बच्चों को पढ़ाया है लेकिन वह चीज़ मै अब  पूर्ण नहीं कर पा रही हूं। उन बच्चों को छूना उन्हें समझाना उनके मन में झांकना यह सब तो नहीं हो पा रहा है इसलिए मुझे एक खालीपन सा महसूस होता है क्योंकि छोटे बच्चे हैं न उन्हें बहुत धैर्य के साथ समझाना पड़ता है खेल- खेल में उन्हें पढ़ाना एवं सिखाना पड़ता है। अभिभावक भी काम करवा तो रहे हैं । लेकिन एक मोटे तरीके से खानापूर्ति हो रही है। क्योंकि अपने बच्चे को ही वह आगे देखना चाहते हैं। और हम अध्यापिकाएं सभी बच्चों को आगे देखना चाहते हैं प्रत्येक बच्चे पर ध्यान देती हैं ।एवं जो बच्चे नहीं कर पाते हैं उसे ज्यादा ध्यान देते हैं वैसे देखा जाए तो अभिभावकों का सोचना गलत नहीं है मैं भी अपने बच्चों को अगर देखूं तो मैं उसको आगे बढ़ते हुए देखना चाहूंगी।




अभी जो यह समय चल रहा है उसमें हम ऑनलाइन कक्षाएं चलाकर एक कड़ी जोड़े हुए हैं जिस कड़ी को मजबूत रखना एक अभिभावक का महत्वपूर्ण कर्तव्य है । मैं उन सभी अभिभावकों से नम्र निवेदन करती हूं कि वह इसी तरह हमारा साथ देते रहें और हमारी आत्मविश्वास का बल बढ़ाते रहें ताकि हम सभी बच्चों को एक जैसा सिखा सकें। जीवन है तो समस्या आएंगी ही उसे स्वीकार ना चाहिए ना कि घबराना । हमें विश्वास है कि जो भी अभिभावक अभी तक नहीं करवा पाए या नहीं करवा रहे हैं तो आगे जरूर करवाएंगे और हमारे इस कड़ी को जोड़ने में हमारी हर संभव प्रयास करते रहेंगे। ना हम हारेंगे ना किसी को हारने देंगे।



धन्यवाद

दीप्ति

प्री स्कूल अध्यापिका




Saturday, September 5, 2020

आनलाइन क्लास और मेरा अनुभव

 आज इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के युग में जैसे हर चीज घर में बैठे उपलब्ध हो जा रही है वैसे ही शिक्षण संबंधी सामग्री भी हमें घर बैठे ही मिल जा रही है ।इसके लिए अनेक प्लेटफार्म है जहाँ ये अकाट्य सत्य हैकि "बच्चे हमारी आखें हैं और शिक्षा उनकी रोशनी" वहां प्रत्येक व्यक्ति का शिक्षित होना अतिआवश्यक है ।अब सवाल ये उठता है कि क्या ऑनलाइन कक्षाएं हमारे स्कूल की कमी को पूरा कर सकने में सक्षम हैं?


क्योकि कोविड 19 महामारी के चलते आज भारत ही नहीं बल्कि दुनिया के सभी स्कूलों को बंद करना पड़ा है और घर बैठे बच्चो को पढ़ाने का एक विकल्प खोजा गया है जो 3-8साल के बच्चो के लिए तो "ना से हा भला "ही कहा जा सकता है क्योकि इस उम्र के बच्चे किताब की अपेक्षा देखकर, सुनकर और करके ज्यादा सीखते हैं ।यही वो उम्र है जब बच्चा अपने परिवार के बाद समाज से परिचित होता है, उसे नये-नये दोस्त मिलते हैं, टीचर मिलती हैं जिनके सामने अपने अनुभूति को अभिव्यक्त करना सीखता है ।इसलिए कक्षा की सभी गतिविधियों को पूरी तरह सीखा पाना तो संभव नहीं किन्तु इनमें सेअधिकांश गतिविधियों को सिखाने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जा रहा है जिससे उनकी सीखने की प्रक्रिया को सरल व रोचक बनाया जा सके किन्तु इस कार्य को सफ़ल बनाने में हमें अभिभावक के सहयोग की भी अपेक्षा है क्योंकि बच्चे इस समय उनके साथ हैं हमारे साथ नहीं । मोबाइल में देखना और देखकर समझाना या बताना अब उनकी जिम्मेदारी बन जाती है। इस तरह एक बच्चे को पढ़ाने में दो लोगों को अपना उतना ही समय देना पड़ रहा है ।एक को पठन सामग्री तैयार करके भेजने में तथा दूसरे को बच्चे से करवाने में।स्कूल में यह काम सिर्फ टीचर द्वारा ही हो जाता है।

अतः इस कार्य में जिस बच्चे के अभिभावक जागरूक और शिक्षित हैं उस बच्चे की पढ़ाई तो सुचारू रूप से चल रही है किंतु जिनके अभिभावक जागरूक या शिक्षित नहीं हैं उनकी पढ़ाई में बहुत से व्यवधान आ रहे हैं ।उनका काम समय पर हम तक नहीं पहुंच पाता।

इस दौरान हमने अलग अलग ग्रुप भी बनाए हैं जिनमें अलग-अलग लेवल(स्तर) के हिसाब से बच्चों को पढ़ाया जा रहा है ।

ऑनलाइन टीचिंग के दौरान हमे माध्यमिक स्तर के विद्यार्थियों में एक और सकारात्मक परिवर्तन उन बच्चों में देखने को मिला जो संकोची स्वभाव के हैं जो समूह में अपनी बात कहने से घबराते हैं ।वह अकेले बिना झिझक के ज्यादा अच्छी तरह सीख पा रहे हैं ।इसके अलावा वह बच्चे जो कलाकार प्रकृति के हैं वह भी अकेले में ज्यादा अच्छी तरह अपना काम कर पा रहे हैं। साथ ही हम टीचर को भी इस दौरान अपनी मौखिक क्षमता को ज्यादा से ज्यादा बढ़ाने का मौका मिला है कि किस तरह हम सब अपनी बात को कम शब्दों में सुंदर और प्रभावी ढंग से बच्चों को समझा सके ।हमें भी अपने शिक्षण कला को और बेहतर बनाने का मौका मिला है। अतः हम कह सकते हैं कि ऑनलाइन क्लास स्कूल ना जा पाने की समस्या का विकल्प हो सकता है किंतु स्कूल की कमी को पूरा कर पाने में पूरी तरह सक्षम नहीं हो सकता ।

कभी-कभी तो ये बच्चे इस तरह की पढाई से ऊब जा रहें हैं क्योकि खेल कूद, कराटे, दौड़ से ये पूरी तरह वंचित हैं ।

स्कूली शिक्षा के दौरान सीखने की प्रक्रिया विद्यालय ,शिक्षक और शिक्षार्थी के बीच संभव हो सकती है किंतु ऑनलाइन क्लास में इन तीनों के अलावा इलेक्ट्रॉनिक माध्यम का दुरुस्त होना भी बहुत जरूरी है।जहाँ इसकी कमी है वहाँ हम सब को बहुत सारी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है जैसे -

1-मोबाइल एक और घर में पढ़ने वाले बच्चे दो।

2- बिजली की समस्या होने से मोबाइल का समय पर चार्ज ना हो पाना ।

3-छोटे बच्चों के अभिभावकों का समय न दे पाना।

4-क्लास के दौरान घर के सदस्यों का कॉल आ जाना और मोबाइल उपलब्ध ना होना इत्यादि।

ऐसी अनेकों समस्याएं हैं जिनसे शिक्षक और बच्चे दोनों को बहुत सी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है किंतु इनका समाधान भी अभिभावक के पास ही है ।

यदि वह चाहे तो इसका समाधान ढूंढ सकते हैं ।कुछ अभिभावक तो ऐसे भी हैं जिनको यह लगता है कि "मोबाइल पर क्या पढ़ाई होगी ।"यह तो फीस लेने का एक बहाना मात्र है ।"

तो उन अभिभावकों के लिए मेरा यह सुझाव है कि ऐसे अभिभावकों को बैठकर क्लास के दौरान सुनना और देखना चाहिए कि कक्षा के दौरान क्या सिखाया और पढाया जा रहा है?यदि उनके पास कोई बेहतर सलाह हो तो उससे टीचर को अवश्य अवगत कराएं । 

ऑनलाइन टीचिंग को प्रभावी बनाने में शिक्षक के अतिरिक्त अभिभावकों का भी अपेक्षित सहयोग बहुत जरूरी है तभी यह सुचारू रूप से हो पाएगा नहीं तो यह एक औपचारिकता मात्र बनकर रह जाएगी ।जबकि शिक्षकों को तो अपनी उतनी ही ऊर्जा और समय खर्च करना पड़ रहा है जितना स्कूल में दिया जाता था ।इसलिए अभिभावकों को भी अपना उचित सहयोग हमें समय-समय पर देते रहना चाहिए जिससे एक बच्चा सफलतापूर्वक सीख सकें और सुयोग्य नागरिक बनने में एक कदम आगे बढ़ा सके । 

इस दौरान मैंने पाया कि कुछ बच्चे जिनके माता-पिता अपने बच्चो के सीखने को महत्व दे रहे हैं उनके बच्चे बहुत अच्छी तरह सीख पा रहे हैं ।जैसे -तन्वी ,शिवांश स्वाति ,आदित्य, रूहाना ,आस्था ,असद ,ईशान ,स्तव्य हार्दिक,अर्श, कौशल,अवयुक्ता, तान्या, श्रीवृष्टि,धैवत और आदित्य।इनका सीखना ही हम शिक्षकों को उत्साहित करता है और अधिक से अधिक सिखाने के लिए प्रेरित करता है।

ममता उपाध्याय 

हिंदी शिक्षिका 

वि0सा0पा0वाराणसी ।



Saturday, July 11, 2020

NIRMAN- a place which is not less than heaven


Neither I nor anyone can truly describe NIRMAN.
I was in class 6th when I got an opportunity to take admission in Vidyashram- The Southpoint School. As I entered the school premises, I was wondering whether I have come to take admission in a convent school or a Gurukul, without knowing, that this only is going to be my Karmbhoomi.
Suddenly I saw students from other countries and I was very surprised because it was my first ever experience with foreigners. On the first day of my school, I met Kaushika ma’am and she asked me to join Intezar’s group but things didn’t go well and I joined Ejaz’s group and he became my first friend at school. After some days, I started learning about the culture of NIRMAN.
Utsav and his friends enjoying a fun moment together!
It is very difficult for me at least, to talk about my school in the limited words and space that social media allows.
This school is beyond our imagination where teachers under the guidance of Prof. Nita Kumar teach their students with their passion and not just because of their profession.

It was a wonderful experience in attending classes with Abha ma’am, Kaushika ma’am, Irfana ma’am, Pravesh sir, Shilpi ma’am, Gaurav sir, Mirza sir, Piali ma’am, Debolina ma’am, Prashtuti and Stuti ma’am, Evan sir, Sunita ma’am, Asif sir, Vinay sir, Manoj sir, Atul sir, Tanya ma’am, Jai sir, Harshita ma’am, Mitali Sen Gupta ma’am, Mitali Gupta ma’am and our beloved Mamta ma’am whose love and care was none less than a mother’s love for his/her children.
Utsav, his Class 10th friends and his teachers!
The best thing which differentiates The Southpoint School from other schools is its motive behind delivering education. Other schools are mere working on generating more and more profits in the name of education whereas Southpoint has only worked on developing skills and the right attitude and personality in students, which will help them in this competitive environment. My school taught me that we should not run behind the success because success is within us only. We only have to believe in ourselves.
It helped me in understanding the difference between reel life and real life. Here I learnt that no work is small and nothing is made for a specific group of people to do. We all belong to same group that is learners. NIRMAN has not only focused on studies but also on extra-curricular activities such as Theatre, Karate, Sports etc..

The love and memory which I got from NIRMAN is such that when I was doing my graduation from Faculty Of Commerce, Banaras Hindu University, I used to talk about my school days and the things I have learnt from it and I give all the credit to my school and the teachers who taught me and guided me in a way that I was able to crack B.H.U entrance exam.
Utsav at his college graduation ceremony!
My school has given me friends who stand by my side in my bad as well as good times. There I got friends like Anupam, Intezar, Vishal, Aquib and Ejaz who are still very close to my heart.
I also got lots of love and care from the school staffs like Tiwari bhaiya, Shukla bhaiya, Ramesh Bhaiya, Vinod Bhaiya, Subhash Bhaiya, Meera didi and many others.
As I told earlier that writing about NIRMAN in limited words is not possible. I would like to thank each and every teacher and staffs of my school who has contributed in building and shaping the future of hundreds of students.

I just wish that I get my old days back once again in NIRMAN.
Utsav Jaiswal

(Utsav studied in The Southpoint School for six years. He completed his graduation from Faculty of Commerce, B.H.U. He is currently doing his MBA from International School of Business and Media, Pune. As part of his M.B.A programme, he interned with the company Tata Steel this year.)



Sunday, May 31, 2020

Online classes: Reflections shared by an aware parent



I want to commence from a historic story that took place in London about lockdown.
 England in 17th century, was considered as intellectual capital in the western  world. During this time, many intellectual personalities set the milestone in history. Second oldest University, Cambridge's Trinity college London, where Francis Becon, John Dryden, and scholars like Jawahar Lal Nehru and other thinkers have enlightened themselves. Among them, Isaac Newton (22 years old) was Science and Mathematics Research student at the University. In that time, in 1665, London suffered a pandemic named Plague. The disaster resulted in the death of nearly 25% of the population. Those days, technology was not developed, nor any medicine or vaccine was available but the only cure was to maintain social distance to stop its spread. Newton understood the perils of the situation and decided to quarantine himself for a year, as everything was shut. As a result, we have Calculus in Mathematics, theory of early Optics, and most importantly the Gravity (1665-66). 
Peeking through his window, he observed the apple fell down, the incident in his mind was confounded that why the apple fell at the bottom. With that, he gave birth to the theory of gravity, which changed the history of the world of Science. When alone, we pay attention to the things that are not commonly seen. The apple must have been falling every day from somewhere, but attention was taken during solitary confinement. The reason to refresh the memory, is to use lockdown time wisely. When alone, we do not think from outside, but from inside. 
    Today, India too is struggling through the Covid -19 pandemic, resultIng in a seismic shift in our lives. These are truely unprecedented times, that demand us all to steer     through unique challenges everyday. But during the period of this pandemic, we are  also worried about our priority to not  disturb our young childrens’ learning flow. To   achieve this, online classes are supportive for children and also their parents. One of 
the main pros of online class is, the aspirants can log in any time. While it is best if they set a daily routine for themselves and stick to it  and with encouragement from  parents, they can make individualised changes to their routine as per their desire.
Navya playing hopscotch, a class activity of the day!

    But clearly, online time cannot provide many of the informal social interactions        students have at school. Despite the audio and video features, no technology can ever replace the classroom setting and the human to human contact in real. But during the period question lies, how will online courses do, in terms of moving students learning  forward?
English copywork by Navya

The solutions are coming through many respected schools and academies, but to my mind the most trusted one is VIDYASHRAM- THE SOUTHPOINT SCHOOL, where the  dedicated teachers and also the Management, who have taken the initiative to educate  tender minds and who are working  hard for  conducting  online classes for  all their students with a dash of entertainment, are proving to be a boon for mothers and also   overworked parents during the Covid-19 lockdown. Their efforts are  commendable.  The current situation is a challenge but also an opportunity as this is the time for self-  reflection and introspection for teachers, students and parents alike.
Navya wrote all words that start with 'Sh' !

Navya made a mother's day gift for her mother, as her teacher encouraged her to do so during the online class.

    I think this is a great initiative started by school management to enjoy our tiny tot's company through comprehensive thinking ,and such wonderful steps tells us that the school is committed towards the education in a holistic manner. The online classes are running in full swing to boost the morale of students and indulging them in academic activities so that once schools open, we could shoot straight to the top.
Keep it up!
Navya's art expressions after her nature walk!

 
Navya and her family
Varsha Kharwar
(Mother of Navya, studying in K.G. class)