Sunday, September 6, 2020

ऑनलाइन कक्षा का अनुभव

 वैसे तो देखा जाए की छोटी से छोटी चीज में भी बहुत कुछ सीखने को मिलता है बस हमें एकाग्रता के साथ उससे जुड़ने की आवश्यकता है उसी प्रकार इस महामारी के चलते जो ऑनलाइन कक्षाएं शुरू हुई है उससे भी हमने बहुत कुछ सीखा । बच्चों के सामने रहकर पढ़ाना और एक ऑनलाइन कक्षा लेना एक अलग ही अनुभव है। टेक्नोलॉजी से जुड़ी कई तकनीकों से हमारा परिचय हुआ हम इतना परिश्रम कर रहे हैं पर कुछ बच्चों और अभिभावकों का सहयोग न मिलने के कारण हमारा मन खिन्न हो जा रहा है । बेटावर के कुछ बच्चों को तो हम लोग होमवर्क और क्लास वर्क दोनों करवाते थे । उनके घर में कोई भी सहयोग नहीं करने वाला है । यहा तक कि किसी- किसी के तो मम्मी - पापा ध्यान ही नहीं दे पाते वो शिक्षित नही है या इतने व्यस्त रहते है कि वह बच्चे अपने नाना-नानी या दादा- दादी के साथ रहते हैं दिन भर रहते हैं। और उनको पढ़ाई समझ में नहीं आती है या तो दिखती नहीं है तो वह बच्चे पूरा हम लोगों पर निर्भर थे ।

इसके पहले मैंने एक मदर टीचर का रिलेशन बनाकर बच्चों को पढ़ाया है लेकिन वह चीज़ मै अब  पूर्ण नहीं कर पा रही हूं। उन बच्चों को छूना उन्हें समझाना उनके मन में झांकना यह सब तो नहीं हो पा रहा है इसलिए मुझे एक खालीपन सा महसूस होता है क्योंकि छोटे बच्चे हैं न उन्हें बहुत धैर्य के साथ समझाना पड़ता है खेल- खेल में उन्हें पढ़ाना एवं सिखाना पड़ता है। अभिभावक भी काम करवा तो रहे हैं । लेकिन एक मोटे तरीके से खानापूर्ति हो रही है। क्योंकि अपने बच्चे को ही वह आगे देखना चाहते हैं। और हम अध्यापिकाएं सभी बच्चों को आगे देखना चाहते हैं प्रत्येक बच्चे पर ध्यान देती हैं ।एवं जो बच्चे नहीं कर पाते हैं उसे ज्यादा ध्यान देते हैं वैसे देखा जाए तो अभिभावकों का सोचना गलत नहीं है मैं भी अपने बच्चों को अगर देखूं तो मैं उसको आगे बढ़ते हुए देखना चाहूंगी।




अभी जो यह समय चल रहा है उसमें हम ऑनलाइन कक्षाएं चलाकर एक कड़ी जोड़े हुए हैं जिस कड़ी को मजबूत रखना एक अभिभावक का महत्वपूर्ण कर्तव्य है । मैं उन सभी अभिभावकों से नम्र निवेदन करती हूं कि वह इसी तरह हमारा साथ देते रहें और हमारी आत्मविश्वास का बल बढ़ाते रहें ताकि हम सभी बच्चों को एक जैसा सिखा सकें। जीवन है तो समस्या आएंगी ही उसे स्वीकार ना चाहिए ना कि घबराना । हमें विश्वास है कि जो भी अभिभावक अभी तक नहीं करवा पाए या नहीं करवा रहे हैं तो आगे जरूर करवाएंगे और हमारे इस कड़ी को जोड़ने में हमारी हर संभव प्रयास करते रहेंगे। ना हम हारेंगे ना किसी को हारने देंगे।



धन्यवाद

दीप्ति

प्री स्कूल अध्यापिका




No comments:

Post a Comment